संतान सुख में बाधा निवारण के शास्त्रीय उपाय

 

जन्म कुंडली का  संतान भाव निर्बल एवम पीड़ित होने से संतान सुख की प्राप्ति में विलम्ब या  बाधा हो तो निम्नलिखित शास्त्रोक्त उपायों में से किसी एक या दो उपायों को श्रद्धा पूर्वक  करें | आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होगी |

1. संकल्प पूर्वक  शुक्ल पक्ष से गुरूवार के १६  नमक रहित मीठे व्रत रखें | केले की पूजा करें तथा ब्राह्मण बटुक को भोजन करा कर यथा योग्य दक्षिणा दें | १६ व्रतों के बाद उद्यापन कराएं | ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं गुरुवे नमः का जाप करें |
2. पुरुष दायें हाथ की तथा स्त्री बाएं हाथ की तर्जनी में गुरु रत्न पुखराज स्वर्ण में विधिवत  धारण करें |
3. यजुर्वेद के मन्त्र दधि क्राणों ( २३/३२)  से हवन कराएं |
4. अथर्व वेद के मन्त्र  अयं ते योनि ( ३/२०/१) से जाप व हवन कराएं |

5.  जन्म कुंडली का  संतान भाव निर्बल सूर्य से पीड़ित होने के कारण संतान सुख की प्राप्ति में विलम्ब या  बाधा हो तो हरिवंश पुराण का विधिवत श्रवण करके उसे दान करें |
जन्म कुंडली का  संतान भाव निर्बल चन्द्र से पीड़ित होने के कारण संतान सुख की प्राप्ति में विलम्ब या  बाधा हो तो रामेश्वर तीर्थ में स्नान करें ,एक लक्ष गायत्री मन्त्र का जाप कराएं तथा चांदी के पात्र में दूध भर कर दान दें |
जन्म कुंडली का  संतान भाव निर्बल मंगल से पीड़ित होने के कारण संतान सुख की प्राप्ति में विलम्ब या  बाधा हो तो भूमि दान करें ,प्रदोष व्रत करें |
जन्म कुंडली का  संतान भाव निर्बल बुध से पीड़ित होने के कारण संतान सुख की प्राप्ति में विलम्ब या  बाधा हो तो  विष्णु सहस्रनाम का जाप करें |
जन्म कुंडली का  संतान भाव निर्बल गुरु से पीड़ित होने के कारण संतान सुख की प्राप्ति में विलम्ब या  बाधा हो तो गुरूवार को फलदार वृक्ष लगवाएं ,ब्राह्मण को स्वर्ण तथा वस्त्र का दान दें |
जन्म कुंडली का  संतान भाव निर्बल शुक्र से पीड़ित होने के कारण संतान सुख की प्राप्ति में विलम्ब या  बाधा हो तो गौ दान करें , आभूषणों से सज्जित लक्ष्मी -नारायण की मूर्ति दान करें |
जन्म कुंडली का  संतान भाव निर्बल शनि से पीड़ित होने के कारण संतान सुख की प्राप्ति में विलम्ब या  बाधा हो तो पीपल का वृक्ष लगाएं तथा उसकी पूजा करें ,रुद्राभिषेक करें और ब्रह्मा की मूर्ति दान करें |

6. संतान गोपाल स्तोत्र

ॐ देवकीसुत गोविन्द वासुदेव जगत्पते

देहि में तनयं कृष्ण त्वामहम शरणम गतः |

उपरोक्त मन्त्र की १०००  संख्या का जाप प्रतिदिन १०० दिन तक करें | तत्पश्चात १०००० मन्त्रों से हवन,१००० से तर्पण ,१०० से मार्जन तथा १० ब्राह्मणों को भोजन कराएं |

7.संतान गणपति स्तोत्र



श्री गणपति की दूर्वा से पूजा करें तथा उपरोक्त स्तोत्र का प्रति दिन ११ या २१ की संख्या में पाठ करें |

8. संतान कामेश्वरी प्रयोग

उपरोक्त यंत्र को शुभ मुहूर्त में अष्ट गंध से भोजपत्र पर बनाएँ तथा षोडशोपचार पूजा करें तथा  ॐ  क्लीं ऐं ह्रीं श्रीं नमो भगवति संतान कामेश्वरी गर्भविरोधम निरासय निरासय सम्यक शीघ्रं संतानमुत्पादयोत्पादय स्वाहा ,मन्त्र का नित्य जाप करें | ऋतु काल के बाद पति और पत्नी जौ के आटे में शक्कर मिला कर ७ गोलियाँ बना लें तथा उपरोक्त मन्त्र से २१ बार अभिमन्त्रित करके एक ही दिन में खा लें तो लाभ होगा | |
9.पुत्र प्रद प्रदोष व्रत ( निर्णयामृत )

शुक्ल  पक्ष की जिस त्रयोदशी को शनिवार हो उस दिन से साल भर यह प्रदोष व्रत करें |प्रातःस्नान करके पुत्र प्राप्ति हेतु व्रत का संकल्प करें | सूर्यास्त के समय शिवलिंग की भवाय भवनाशाय  मजौ का सत्तू ,घी ,शक्कर का भोग लगाएं |न्त्र से पूजा करें | आठ दिशाओं में  दीपक रख कर  आठ -आठ बार प्रणाम करें | नंदी को जल व दूर्वा अर्पित करें तथा उसके सींग व पूंछ का स्पर्श करें | अंत में शिव पार्वती की आरती पूजन करें |

10. पुत्र व्रत (वराह पुराण )

भाद्रपद कृष्ण सप्तमी को उपवास करके विष्णु का पूजन करें | अगले दिन ओम् क्लीं कृष्णाय गोविन्दाय गोपी जन वल्लभाय  स्वाहा मन्त्र से तिलों की १०८ आहुति दे कर ब्राह्मण भोजन कराएं  | बिल्व फल खा कर षडरस भोजन करें | वर्ष भर प्रत्येक मास की सप्तमी को इसी प्रकार व्रत रखने से पुत्र प्राप्ति होगी |

गर्भ मास के अधिपति ग्रह व उनका दान

गर्भाधान से नवें महीने तक प्रत्येक मास के अधिपति ग्रह के पदार्थों का उनके वार में दान करने से गर्भ क्षय का भय नहीं रहता |  गर्भ मास के अधिपति ग्रह व उनके दान निम्नलिखित हैं ——

प्रथम मास — — शुक्र  (चावल ,चीनी ,गेहूं का आटा ,दूध ,दही ,चांदी ,श्वेत वस्त्र व दक्षिणा शुक्रवार को  )

द्वितीय मास — —मंगल ( गुड ,ताम्बा ,सिन्दूर ,लाल वस्त्र , लाल फल व दक्षिणा मंगलवार को  )

तृतीय मास — — गुरु (    पीला वस्त्र ,हल्दी ,स्वर्ण , पपीता ,चने कि दाल , बेसन व दक्षिणा गुरूवार को  )

चतुर्थ मास — —     सूर्य (    गुड ,  गेहूं ,ताम्बा ,सिन्दूर ,लाल वस्त्र , लाल फल व दक्षिणा रविवार को )

पंचम मास —-        चन्द्र (चावल ,चीनी ,गेहूं का आटा ,दूध ,दही ,चांदी ,श्वेत वस्त्र व दक्षिणा सोमवार को )

षष्ट मास — —–      शनि ( काले तिल ,काले उडद ,तेल ,लोहा ,काला वस्त्र व दक्षिणा  शनिवार को )

सप्तम मास —– बुध ( हरा वस्त्र ,मूंग ,कांसे का पात्र ,हरी सब्जियां  व दक्षिणा बुधवार को )

अष्टम मास —-   गर्भाधान कालिक लग्नेश ग्रह  से सम्बंधित दान उसके वार में |यदि पता न हो तो अन्न ,वस्त्र व फल का दान अष्टम मास लगते ही नकार दें |

नवं मास —-     चन्द्र (चावल ,चीनी ,गेहूं का आटा ,दूध ,दही ,चांदी ,श्वेत वस्त्र व दक्षिणा सोमवार को )

 

 

 

 


About kantkrishan

I have written many books on astrology like 1 Janam kundli Phalit Darpan 2 Prashan Phal Nirnay 3 Brihat Jyotish Gian 4 VimshottaryIDasha Phal Nirnay all from Manoj publications Burari Delhi. My articles on predictive astrology have been published in many renowned magzines like Kalyan( Gorakhpur),kadambni etc. I have started a new sereies' falit jyotish ka saral gyan ' on my this blog for the people who have keen interest in predictive vaidic astrology.My services are available online for analysis of horoscopes,match-making,Muhurat and other fields related to astrology I am also available on Tweet http://vaidicastrology.twitter.com/
यह प्रविष्टि जन्मकुंडली से विभिन्न विषयों का विचार में पोस्ट और टैग की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

संतान सुख में बाधा निवारण के शास्त्रीय उपाय को 11 उत्तर

  1. anu verma कहते हैं:

    Pundit Ji pranam mere husband ki dob 27/01/1974hai or time 8.29a.m Ludhiana ki hair or mera dob 19/01/1977 or time 8.15a.m hai. Hamare two betiyan hai mujhe kya putar prapti ho sakti hai please mujhe bataye main bout preshan goon

    • kantkrishan कहते हैं:

      मेरी नवीन पुस्तक ज्योतिष निबंधमाला में संतान योग तथा अन्य उपयोगी विषयों पर बहुत विस्तार से वर्णन किया गया है | पुस्तक सामान्य जन में फैलाई जा रही अनेक प्रकार की भ्रांतियों को दूर करने वाली तथा संग्रहनीय है | अतः आपसे अनुरोध है की एक बार इसे मंगा कर अवश्य पढ़ें |फिर भी किसी प्रकार की शंका या प्रश्न होगा तो मैं समाधान के लिए प्रस्तुत रहूँगा | पुस्तक क्रय करने के लिए निम्नलिखित link पर जाएँ | https://www.educreation.in/store/jyotish-nibandhmala-krishan-kant-bhardwaj.html अथवा मुझे kant.krishan@gmail.com पर मेल करें या 9416346682 पर संपर्क करें |
      कृष्ण कान्त भारद्वाज

  2. rimpal mukesh thakor कहते हैं:

    Hi sir meri shadi ko 7 sal ho chuke hhe .aur muje santan sukha abhi tak nahi mila .meri details he .khushbu dob12/12/90 tob 1.10pm

  3. Ashok कहते हैं:

    Pandit ji pranam my dob is 22.04.1983 Jaipur Rajasthan 9.00 AM pls check the kundali and Santan prapti upay bataye thank u

  4. Ashok कहते हैं:

    Pandit ji pranam my dob is 22.04.1983 pls check the kundali and Santana prapti upay bataye thank u

  5. manmit कहते हैं:

    mere kundli me kitne bacche likhe hai DOB-13/09/1982

  6. Manpreet kaur कहते हैं:

    Pandit g parnaam. Sir meri saadi ko 4 saal ho gye par abi tak koi santaan nhi huyi.meri DOB.28.09.1989.janam time 6:55AM .PUNJAB .MAIN kab tak maa ban payugi.PLS ans bataiye.main buhat presaan hoin

  7. khushbu maheshwari कहते हैं:

    Hi sir meri shadi ko 7 sal ho chuke hhe .aur muje santan sukha abhi tak nahi mila .meri details he .khushbu dob16/1/83 tob 1.45am , pob Alirajpur mp .and my husband details dob 10/9/80, tob 00.48am ,pob is ratlam mp me ye janana chahti hu ki kab tak muje bacche ho jayega .mene pirtudosh kal sardosh poja bhi karvi thi .ab kab tak yog he . Please sir .

  8. subhashambikapur कहते हैं:

    pandit ji parnam, mera janam samay 10:32 am , place-ambikapur chhattishgarh date-23 january 1980 meri kundli me sakat yog, chandal yog.angarak yog.hai in asubh yogon ka samadhan kaise hoga batane ki kripa karen

  9. subhashambikapur कहते हैं:

    pandit ji mera janam 23 january 1980 ko subah 10:32 par ambikapur chhattishgarh me hua hai mai karz se bahut pareshan hu koi samadhan batane ki kripa karen

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s